मंगलवार, 28 सितंबर 2010

वीर तुम ...धीर तुम

वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

हाथ में कलम रहे नेट खुशफहम रहे
तू कभी रुके नहीं सत्तू कभी मुके नहीं
वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

सामने पहाड़ हो शेरनी दहाड़ हो
तुम निडर डरो नहीं तुम निडर डटो वहीं
वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

प्रात हो कि रात हो संग हो न साथ हो
सूर्य से बढ़े चलो चन्द्र से बढ़े चलो
वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

एक ध्वज लिये हुए एक प्रण किये हुए
ब्लॉगभूमि के लिये, दही दिमाग के लिये
वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

अन्न गृह में भरा वारि नल में भरा
बरतन खुद निकाल लो खाना खुद बना लो
वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !


9 टिप्पणियाँ:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

वाह वाह! वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !

ललित शर्मा ने कहा…

वाह वाह--बढिया रिपेयरिंग सेंटर खोला है भाई।
पता ही नहीं था।-- इस हफ़्ते इसकी चर्चा प्रिंट मीडिया में होगी।

आभार

Udan Tashtari ने कहा…

वीर तुम लिखे चलो ! धीर तुम रचे चलो !


-बस सर, इन्हीं पंक्तियों का अनुसरण कर रहे हैं.

Arvind Mishra ने कहा…

और खोल के लिखे होते ...

Anjana (Gudia) ने कहा…

:बहुत बढ़िया!

Tripat "Prerna" ने कहा…

bahut hi umdha

http://liberalflorence.blogspot.com/

JHAROKHA ने कहा…

Wah!-wah baut khoob. bahut pasand aaya.
poonam

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

badiya parody.....sadhuwad..

बंटी चोर ने कहा…

ताऊ पहेली ९५ का जवाब -- आप भी जानिए
http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/blog-post_9974.html

भारत प्रश्न मंच कि पहेली का जवाब
http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/blog-post_8440.html

अगर सही जवाब अभी भी समझ नहीं आया तो .... कल सुबह का इंतजार करे .... कल स्पष्ट जवाब पोस्ट कर दिया जायेगा

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!