शुक्रवार, 17 सितंबर 2010

ईर, वीर, फत्ते के परेमपत्तर

.
.
.
.
.
एक रहेन ईर, एक रहेन वीर, एक रहेन फत्ते।

ईर कहेन वीर से - चलो परेमपत्तर  लिखा जाई 
वीर कहेन फत्ते से - चलो परेमपत्तर  लिखा जाई 
ईर लिखे एक ठो 
वीर लिखे दू ठो 
फत्ते लिखे पूरी रमयनी। 

ईर कहेन वीर से - चलो परेमपत्तर दिया जाई 
वीर कहेन फत्ते से - चलो परेमपत्तर दिया जाई 
ईर दिएन अपनी वाली को 
वीर भी दिएन अपनी वाली को 
फत्ते की कोई थी ही नहीं! 
.
.
.
.
.

8 टिप्पणियाँ:

अभिषेक ओझा ने कहा…

भैया ये तो सीरियस हो गया :)
किसी की बदहाली का मजाक हो गया.

Ashish Shrivastava ने कहा…

ये फत्ते के साथ् अन्याय है !

वाणी गीत ने कहा…

भेरी बैड ...:):)

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

... फत्ते पुट दिहिन ब्लॉग पर!

boletobindas ने कहा…

मन्ने लागा फत्ते दि दिहिन इर अते वीरे दी परेमिका कू

डॉ. नूतन गैरोला " अमृता " ने कहा…

achhi kahani bani par the end dard bhara.. :)

डॉ. नूतन गैरोला " अमृता " ने कहा…

do sher खस्ता शेर - खुदा खैर blog ko samarpit..( net se )

.
एक शेर सुनाती हूँ बड़े ध्यान से सुनो
मुझे शेर नहीं आता किसी और से सुनो ||..:))) .
.
.
.

वो शेर सुनाने लगे तो मै जाग गया॥
शेर इतना खतरनाक था कि मै भाग गया॥:)
.
.good wishes

मो सम कौन ? ने कहा…

राव साहब,
वो उपन्यास कब पूरा होगा, प्रेम पत्र वाला?
इस पोस्ट से वैसे कोई संबंध नहीं है इस सवाल का, कहीं समझो कि...।

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!