बुधवार, 7 मार्च 2012

होलिका के सपने

बरेली के एक शिक्षक कवि श्री ग्रिन्दलाल जी ने आपात्काल पर एक गीत रचा था, "कैसे झूलें रानी, खिसक गया पटरा।" होलिकादहन की रात्रि पर जलते हुए पटरे देखकर उनके शब्द याद आ गये और साथ ही याद आया होलिका मैया का आत्मविश्वास। कुछ पंक्तियाँ प्रस्तुत हैं:

होलिका दहन की तैयारी
कुँवरि चुटैल हैं अब झूल न सकेंगी
और कोई झूलै तो पटरा खींच लेंगी

जीतने का दम नहीं हार उनकी तय है
चीख-चीख आकाश सिर पे ले धरेंगी

आग दिल में है नहीं आँच कैसे होगी
प्रह्लाद मरे कैसे धुआँधार ही करेंगी

अपनों में दोष कभी दानव न देखते
पाप खुद करें आरोप भक्त पे मढेंगी

भाई का राज कई बकरे सजातीं रोज़
रक्तपान में आनन्द क़ुर्बान वे करेंगी

होलिका के दर्शन को बौराये मत घूमो
इस जहाँ में अब कभी पग नहीं धरेंगी

असुरों के खानदान का अंत दूर नहीं
प्रह्लाद मार रहीं जल के खुद मरेंगी॥ 

3 टिप्पणियाँ:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति ... होलिका की तरफ से पहली रचना पढ़ी है ...


होली की शुभकामनायें

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

होली में सब अपने हाथ साफ़ कर लें...बधाई !

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

बहुत बढिया प्रस्तुति,नवस्येष्टि पर्व की हा्र्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई

टिप्पणी पोस्ट करें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!