गुरुवार, 12 जुलाई 2012

फेसबुक, त्रिकालजयी कविता और मूर्धन्य विश्लेषण

फेसबुक पर केवल फालतू बकबक नहीं होती, त्रिकालजयी काव्य का भी सृजन होता है। उसकी व्याख्यायें और विमर्शादि भी घटित होते हैं। एक नमूना:
__________________________
  • चाहे जो कहिये, हिन्दी ब्लॉग जगत को देख कर तो यही लगता है कि कविताओं में महारत स्त्रियों को ही हासिल है। ऐसे ऐसे दिग्गज विद्वान साष्टांग टिप्पणियों और चर्चाओं में लगे होते हैं कि मुझे अपनी समझ पर भारी शंका होने लगती है। पिछले सप्ताह से तो मैं मान बैठा हूँ कि मुझे कविताओं की समझ ही नहीं है।
     ·  ·  · 

      • Abhishek Ojha आपको नहीं है समझ?
        कविता की !
        कर रहे हैं -
        बात क्या ?
        [इसे त्रिकालजयी कविता कह दीजिये]

        10 hours ago via mobile ·  · 2

      • गिरिजेश भोजपुरिया एक कालजयी कविता:
        इस कविता में चार चरण हैं जिनके मात्रा और गण विन्यास में बीटा डिस्ट्रीब्यूशन का प्रयोग किया गया है। संसार की किसी भी भाषा में इस विन्यास में रची गयी यह पहली कविता है।

        10 hours ago ·  · 1

      • गिरिजेश भोजपुरिया प्रश्न से प्रारम्भ कर के प्रश्न से ही समाप्त कर के कवि ने मैथिली शरण गुप्त की उस अवसानग्रस्त परम्परा को पुनर्जीवन दिया है जिसका सारे संसार में कोई सानी नहीं।
        10 hours ago ·  · 1

      • गिरिजेश भोजपुरिया मात्र तेरह वर्णों का प्रयोग कर कवि ने यह सिद्ध कर दिया है कि 13 का अंक केवल अशुभ ही नहीं होता, उसके द्वारा कविता भी रची जा सकती है ।
        10 hours ago ·  · 1

      • Rajani Kant वाह वाह वाह वाह
        शब्द तो थे मगर मानी कहाँ से लाता
        मेरे मुरीद इसको भी मेरी शायरी कहते

        9 hours ago via mobile ·  · 1

      • Lalit Sharma वाह वाह वाह वाह :))))))))))))
        9 hours ago ·  · 1

      • गिरिजेश भोजपुरिया पहले चरण में 13 मात्रायें हैं, यह अनायास ही नहीं है। 13 को पुन: सम्मान दे कर कवि ने एक उपेक्षित सर्वहारा अंक को गरिमा प्रदान की है। साहित्यिक क्रांति दीवारों के बजाय फेसबुक पर भी की जा सकती है, यह कविता इसका पहला प्रमाण है।
        9 hours ago ·  · 2

      • Salil Varma ‎:))
        9 hours ago · 

      • गिरिजेश भोजपुरिया दूसरे चरण में 6, तीसरे में 7 और चौथे में 5 मात्रायें हैं। 5,6,7 की इतना रहस्यपूर्ण प्रयोग पहले कभी नहीं देखा गया। कुल 31 मात्रायें हैं जो कि 13 के अंकस्थान बदलने से होती हैं। कवि यह बताना चाह रहा है कि चाहे जैसे भी प्रश्न हों, अंतत: प्रश्न ही रह जाते हैं - इधर से या उधर से, प्रारम्भ से या अंत से - हर तरफ से! और प्रश्नों के उत्तर देने में दिमाग का तिया पाँचा वैसे ही होता है जैसे 5,6 और 7 के क्रम का कविता में हो गया है!
        9 hours ago ·  · 2
      • गिरिजेश भोजपुरिया इस महान कविता के शिल्प की चर्चा तो हो गई। अब कविता की व्याख्या श्री Rajani Kant जी करेंगे।
        9 hours ago · 

      • Rajani Kant यगण मगण तगड़ रगड़ रगड़ झगड़ झगड़
        8 hours ago via mobile ·  · 1

      • Shiv Mishra समझ कविता की
        पाने को
        घुसना पड़ेगा कविता के अन्दर
        खोज करनी पड़ेगी उस दरवाजे की
        कि जो देता है रास्ता
        कविता तक पहुंचने का।

        about an hour ago via mobile ·  · 2

      • गिरिजेश भोजपुरिया रजनी कांत जी ने सात गूढ़ शब्दों में पूरी कविता की व्याख्या कर के एक नया प्रतिमान स्थापित किया है कि व्याख्या कविता की शब्द संख्या से भी कम शब्दों में हो सकती है। शिव मिश्र जी ने ऐसी व्याख्या की चुनौतियों पर मुक्तिबोधी टार्च से गूढ़ प्रकाश डाला है। आभार।
        2 minutes ago · 




4 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!