शुक्रवार, 10 दिसंबर 2010

महाकवि फत्ते के बेढंगे दोहे

बड़े बड़ाई ना तजें, मन में रहे फितूर
पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर।

चलता राही देख के, कउवा रहा हर्षाय
कपड़ों पर बीट की, जोरू पीटे दौड़ाय।

फत्ते सुमिरन ना करे दुख पाए दिन रात
जब भी गैस खत्म हो, खाये बासी भात।

बैठी चिड़िया डार पर, गाए अजब सा राग
सारे बटन नोच गई, दर्जी तक पहुँचो भाग।

फत्ते माला ना जपो, जीवे तुम्हरी हीर
रटते रटते चुप हुई, अंगुली गठिया पीर।
 
  

10 टिप्पणियाँ:

गंगेश राव ने कहा…

"ऐसे लेखक देख कर मन मेरा हर्षाय.....
इनको नियरे राखिये आँगन कुटी छवाय ....."

ana ने कहा…

bahut badhiya .....padhane ke liye dhanyavaad

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

कबिरा कहे कमाल सों बस तू इतना सीख ,
जो मन चाहे टीप दे ,पाठक ले सिर पीट !

Kunwar Kusumesh ने कहा…

फत्ते कलकत्ते गए,संग में गया न कोय.
लौटे मेहरारू लिए ,गाओ सब ओय होय.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

वाह, वाह!
कविता करना है नहीं जी बच्चों का खेल
दोहे वे जो दूह लें बिना तिलों के तेल ||

मनोज कुमार ने कहा…

चलता राही देख के, कउवा रहा हर्षाय
कपड़ों पर बीट की, जोरू पीटे दौड़ाय।
सच्ची वाणी। यही होता है।

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

गिरिजेश राव जी हँसाने का पूरा बंदोबस्त किया है आपने| बधाई|
महाकवि 'बिहारी' जी के दोहे की एक पंक्ति को ले कर विद्यार्थी काल में लिखा अपना एक दोहा आप सभी से साझा करता हूँ:-

कहत, नटत, रीझत, खिजत, मिलत, खिलत, लजियात|
भरी पचासी डोकरी, नखरे मोहि दिखात||

हाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहाहा

मो सम कौन ? ने कहा…

देख बिरानी चुपड़ी, फ़त्ते जी ललचाय
घर की सूखी ही भली, भूख तो दे मिटाय।

अनुपमा पाठक ने कहा…

बढ़िया है:)

सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही खुबसूरत रचना...मेरा ब्लागः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ मेरी कविताएँ "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी हर सोमवार, शुक्रवार प्रकाशित.....आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे......धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!