सोमवार, 8 नवंबर 2010

जिसका काम उसी को साजे

रॉबर्ट फ्रॉस्ट की एक कविता है - Miles to go before I sleep. बच्चों के बुढ़ऊ अंकल नेहरू इसे अमर कर गए क्यों कि मृत्यु के समय यह कविता उनकी टेबल पर पाई गई। अब चाहे जो कारण रहे हों, पाई गई और इंस्टेंट हिट हो गई। 

मैंने कभी उन 4 पंक्तियों का अनुवाद किया था जिसे साथियों ने बहुत पसन्द किया।

गहन एकांत वन तिमिर शांत
परंतु प्रतिज्ञाएँ हैं उद्भ्रांत
मीलों जाना इसके पहले की होऊँ शान्त
मीलों है जाना इसके पहले कि होऊँ  शांत।

आज गंगेश को गर्वपूर्वक सुनाया तो उसने धीरे से कहा आप शायद lovely को lonely जान रहे थे। इसीलिए 'एकांत' अनुवाद किये हैं लेकिन lovely ही सही है। मुझे साँप सूँघ गया। घबराहट दबा कर 'जो बोले सो कुंडी खोले' की तर्ज पर मैंने कहा - तुम्हीं कर दो बढ़िया सा अनुवाद। 

थोड़ी देर बाद यह जवाब मिला: 
गहन सुंदर तिमिर वन
उसमे ज़ोर से सन्नाटा बाजे 
जिसका काम उसी को साजे 
दूजा करे तो डंडा बाजे

साथ ही स्माइली के साथ क्षमा प्रार्थना: आपसे ही सीखा है 'खस्ता शेर' ब्लॉग पर। 
हमलोग इस ब्लॉग पर अच्छी सीखें दे रहे हैं कि नहीं? 

12 टिप्पणियाँ:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

आनन्द आ गया...

Satish Saxena ने कहा…

यह सही रहा ....! शुभकामनायें !

Smart Indian ने कहा…

कमाल कीता है जी!

चाचा नेहरू को बधाई!
रॉबर्ट फ्रॉस्ट को बधाई!
तिमिर वन को बधाई!
राव बंधुओं को बधाई!

Rohit joshi ने कहा…

ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


http://ruftufstock.blogspot.com/

Smart Indian ने कहा…

सतीश जी एवम् भारतीय नागरिक जी,
आभार!

रोहित जी,
आपका हार्दिक धन्यवाद. खस्ता शेर में आपके खैरकदम की कमी काफी शिद्दत से महसूस की जा रही थी - अल्लाह ताला ने सुन ही ली आखिरकार. वाकई बडा कारसाज़ है। आपका रफटफ ब्लॉग भी देखा, शुभकामनायें!

Deepak Saini ने कहा…

बहुत बढिया

संजय @ मो सम कौन... ने कहा…

हम तो जी बाट देख रहे थे कि बाल दिवस आये और फ़िर हम कमेंट करें।
वस्ताद बंधुओं के दोनों अनुवाद बढिया हैं।
हमसे एक चूक हो गई थी, ब्लॉग्स की दुनिया में आपका खैरकदम तो किया ही नहीं था हमने, सीधे कमेंट मार दिया करते थे। रोहित जी ने राह दिखाई, तो जी हमारी तरफ़ से भी स्वागत है आपका, ब्लॉग्स की दुनिया में।

Smart Indian ने कहा…

@मो सम कौन?
;)

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत बढिया सीख दे रहे हैं हम तो अब तक पीछे ही रह गये सीख लेने से। अब आते रहेंगे। धन्यवाद।

Jyoti ने कहा…

वाह वाह
मुझे ऐसे ही ब्लाग की तलाश थी

Smart Indian ने कहा…

शुक्रिया ज्योति, आपके आने से हो जायेगा रौशन यह ब्लॉग।

Anjana Dayal de Prewitt (Gudia) ने कहा…

bahut sahi rahi... jiska ... usi ke sir ;-)

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!