रविवार, 20 जनवरी 2019

खस्ता शेर

हमने भी उसी कमबख्त से मोहब्बत की थी
जिसने खुद हमारी जान की सुपारी ली थी 🎶🎵🎼

- मुनीश शर्मा

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

आते जाओ, मुस्कराते जाओ!